शनिवार, 12 मार्च 2011

तुम्हारा ख़त


तुम्हारा ख़त जो आज आया था,
उसने
दिल को मेरे तड़पाया था
याद
फिर मुझको तेरी आई थी,
दर्द
मीठा सा उभर आया था

2 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

hriday ke bhavon ki bahut khoobsurat abhivyakti..

amrendra "amar" ने कहा…

sunder abhivyakti

Related Posts with Thumbnails