मंगलवार, 30 मार्च 2010

क़लम तलवार के आगे


मैं काग़ज़ के सिपाही काट कर लश्कर बनाता हूँ,
नहीं है काम ये आसां मगर अक्सर बनाता हूँ

मेरी हालत तो देखे पास आकर उस घड़ी कोई,
मैं अरमानो में अपने आग जब हंस कर लगाता हूँ

ये जितने फूल हैं ले लो हमें तुम ख़ार रहने दो,
ये दामन थाम लेंगे मैं इन्हें रहबर बनाता हूँ

नज़र आती है मुझको हर हसीं चेहरे की सच्चाई,
मैं दरपन को उठा कर जब कभी पैकर बनाता हूँ

जगा कर दर्द हर दिल में बुझा दो आग नफ़रत की,
मैं अपने अश्क़ से पैमाना- - कौसर बनाता हूँ

जहाँ से दूर कोसों हो गया हो दर्द और आहें,
मैं ऐसे महल तख्तों-ताज को ठोकर लगाता हूँ

उठाई है क़लम हमने यहाँ तलवार के आगे,
मैं दुनिया को क़लम का आज ये जौहर दिखाता हूँ

मेरे गिरने पे क्यों 'अनवार' हंस पड़ती है ये दुनिया,
मैं ठोकर खा के अपनी ज़िन्दगी बेहतर बनाता हूँ

15 टिप्‍पणियां:

सुशीला पुरी ने कहा…

पेड़ जंगल के हरे सब हो गए ,
ख्वाब आंखो मे उतर आया कोई .
चिलचिलाती धूप मे तन्हा शजर ,
बुन रहा किसके लिए छाया कोई .

naman ने कहा…

mujhe faqr hai ki mai kisi na kisi hasiyat ya rishte se apse judi hoon...agar apki gazal ki tareef lafzon me bayan karoon to ya apke sath be-imani hogi.......(anupama)

Rohit "meet" ने कहा…

wah bhai kya baat hai ye bahut badi baat hai ki gazal ke har sher umda ho.

Rohit "meet" ने कहा…

aapki lekhni ko meet ka salam

nadankinadani ने कहा…

Bhaijaan in shabdo ki tareef me mere shabdkosh me shabd nahi aur juban per alfaaz nahi, bus itna keh sakta hoon ki mere jaan ne walo me ab tak ki better rachna hai, ummeed hai ki yeh safar jaari rahega.....bahut....umda

nadan

अल्पना वर्मा ने कहा…

'मैं काग़ज़ के सिपाही काट कर लश्कर बनाता हूँ,
नहीं है काम ये आसां मगर अक्सर बनाता हूँ।'
'उठाई है क़लम हमने यहाँ तलवार के आगे,
मैं दुनिया को क़लम का आज ये जौहर दिखता हूँ।
*** वाह! बहुत उम्दा !
कलम का वार तलवार के वार से भी अधिक असरदार होता है कभी कभी!
तभी मीडिया से अच्छे अच्छे डरते हैं.
बहुत अच्छी ग़ज़ल कही है आप ने.
बधाई.

amrendra "aks" ने कहा…

मैं काग़ज़ के सिपाही काट कर लश्कर बनाता हूँ,
नहीं है काम ये आसां मगर अक्सर बनाता हूँ।


Waah Sir Realy very nice ...................

amrendra "aks" ने कहा…

जहाँ से दूर कोसों हो गया हो दर्द और आहें,
मैं ऐसे महल तख्तों-ताज को ठोकर लगता हूँ।


sir Bahut acchi lines ........
Shukriya ...........................

राहुल शर्मा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
राहुल शर्मा ने कहा…

मेरे पास शब्द नहीं आपकी इस ग़ज़ल के लिए.....अंतिम पंक्ति """"मैं ठोकर खा के अपनी ज़िन्दगी बेहतर बनाता हूँ। """"बल्कि पूरी ग़ज़ल ही लाजवाब है......

राहुल शर्मा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
श्रद्धा जैन ने कहा…

उठाई है क़लम हमने यहाँ तलवार के आगे,
मैं दुनिया को क़लम का आज ये जौहर दिखता हूँ।

Sir ji yaha shayad aapki typing mistake hui hai

Dikhaata hun dikhta hua likh gaya hai.....


मेरे गिरने पे क्यों 'अनवार' हंस पड़ती है ये दुनिया,
मैं ठोकर खा के अपनी ज़िन्दगी बेहतर बनाता हूँ।

waah kamaal ka sher kaha hai .....

har sher sunder

kya daad doon, nishabd hun

अनवारुल हसन [AIR - FM RAINBOW 100.7 Lko] ने कहा…

आप सब का बहुत शुक्रिया. वर्तनी की त्रुटि की ओर ध्यान इंगित कराने के लिए... श्रृद्धा जी धन्यवाद.

स्वाति ने कहा…

'मैं काग़ज़ के सिपाही काट कर लश्कर बनाता हूँ,
नहीं है काम ये आसां मगर अक्सर बनाता हूँ।'
उम्दा ग़ज़ल

Meenu Khare ने कहा…

मेरे गिरने पे क्यों 'अनवार' हंस पड़ती है ये दुनिया,
मैं ठोकर खा के अपनी ज़िन्दगी बेहतर बनाता हूँ।

बहुत ही बढ़िया.जीते रहिये.

Related Posts with Thumbnails